Dard Bhari Sad Shayari In Hindi

0
Dard Bhari Sad Shayari In Hindi. Sad Shayari, Dard Dukh Bhari gam bhari Shayari In Hindi. Tute Dil Ke Liye Dard Bhari Shayari. Dard Gam Bewafa Sad Shayari In Hindi. Mohabbat Me Bebafai Ke Liye Shayari. दुःख दर्द भरी शायरी हिंदी में
 Dard Bhari Sad Shayari In Hindi

Dard Bhari Sad Shayari In Hindi
. Sad Shayari, Dard Dukh Bhari gam bhari Shayari In Hindi. Tute Dil Ke Liye Dard Bhari Shayari. Dard Gam Bewafa Sad Shayari In Hindi. Mohabbat Me Bebafai Ke Liye Shayari. दुःख दर्द भरी शायरी हिंदी में
Sad शायरी, किसी की याद दिल
किसी की याद दिल में आज भी है,
वो भूल गए मगर हमें प्यार आज भी है
हम खुश रहने की कोशिश तो करते हैं मगर
अकेले में आंसू बहते आज भी हैं

Sad शायरी, आँसू निकल पड़े
आँसू निकल पड़े
इतना तो ज़िंदगी में, किसी की खलल पड़े,
हँसने से हो सुकून, रोने से कल पड़े,
मुद्दत के बाद उसने, जो की लुत्फ़ की निगाह,
जी खुश तो हो गया, मगर आँसू निकल पड़े।

Sad शायरी, तेरी ये रेशमी ज़ुल्फ़ें हैं
तेरी ये रेशमी ज़ुल्फ़ें हैं एक जंजीर के टुकड़े
मेरी नस-नस में बसे है तेरी तस्वीर के टुकड़े
अगर यकीन ना आये तो दिल चीर के दिखा दूँ
मेरे दिल से भी निकलेंगे तेरी तस्वीर के टुकड़े।

Sad शायरी, Wafa Ki Aag Mein
Wafa Ki Aag Mein Jo Khud Ko Jala Deta,
Unse Mohabbat Ka Main Rishta Nibha Deta,
Aaj Agar Unki Galiyon Mein Jata Toh,
Unki Yaadon Ko Aakhir Jawaab Kya Deta,

Sad शायरी, Maayus Dil Mein,
Maayus Dil Mein, Dil-E-Nakaam Ho Gaya,
Rooksat Ho Duniya Se Mujhe Aaraam Ho Gaya,
Main Har Tarah Se Doshi Ho Gaya,
Galati Ki Kisi Aur Ne, Naam Mera Ho Gaya,

Sad शायरी, कही मिले तो उसे
कही मिले तो उसे यह कहना
गए दिनों को भुला रहा हूँ
वह अपने वादे से फिर गया है
मैं अपने वादे निभा रहा हूँ…..

Sad शायरी, सपना कभी साकार
सपना कभी साकार नहीं होता ,
मोहब्बत का कोई आकार नहीं होता ,
सब कुछ हो जाता है दुनिया में ,
मगर दुबारा किसी से सच्चा प्यार नहीं होता।

Sad शायरी, दिल लगाना छोड़ दिया
दिल लगाना छोड़ दिया हमने ,
आँसू बहाना छोड़ दिया हमने ,
बहुत खा चुके धोखा प्यार में ,
इसलिए मुस्कुराना छोड़ दिया हमने।

Sad शायरी, जिंदगी सुन्दर हैं
जिंदगी सुन्दर हैं पर जीना नही आता
हर चीज मे नशा हैं, पर पीना नही आता।
सब मेरे बगैर जी सकते हैं
बस मुझे ही किसी के बीना जीना नही आता

Sad शायरी, रहकर तुझसे दूर
रहकर तुझसे दूर , कुछ यूँ वक़्त गुज़ारा मैंने ना होंठ हिले ,
ना आवाज़ आई फिर भी हर वक़्त तुझको पुकारा मैंने

Sad शायरी, सिलसिले की उम्मीद
सिलसिले की उम्मीद थी उनसे ,
वही फाँसले बढ़ाते गए ,
हम तो पास आने की कोशिश में थे।
ना जाने क्यों वह हमसे दूरियाँ बढ़ाते गए।

Sad शायरी, Sab Kuchh Kahna
Sab Kuchh Kahna Hi Pyar Nahi Hota
Kise Ko Hasil Kar Lena Hi Pyar Nahi Hota
Youn To Lakhon Hai Sath Dene Ko Duniya Me
Magar Sath Dena Hi To Pyar Nahi Hota,,,,,,,,,,,,,

Sad शायरी, Kyun Daaman Ko
Kyun Daaman Ko Dagdar Karte Ho,
Kyun Bewafa Se Mohabbat Karte Ho,
Jo Poojta Hai Tumhein Khuda Ki Tarha,
Kyun Uski Mohabbat Ko Badnaam Karte Ho…

Sad शायरी, Dard Ab Itna Ki
Dard Ab Itna Ki Sambhlata Nahi Hai
Tera Dil Mere Dil Se Milta Nahi Hai
Ab Aur Kis Tarah Pukaroon Main Tumhe
Tera Dil To Mere Dil Ki Sunta Bhi Nahi Hai…

Sad शायरी, Pyar Mein Mila
Pyar Mein Mila Har Gam Tohfa-E-Yaar Hota Hai,
Pyar Wo Hota Hai Jis Mein Intezaar Hota Hai,
Arso Tak Intezaar Karte Hai Woh Log Yaha Par,
Jinko Apne Yaar Ke Pyar Pe Aitbaar Hota Hai.

Sad शायरी, Dard Mein Koi Mausam
Dard Mein Koi Mausam Pyara Nahi Hota,
Agar Pyasa Ho Dil To Pani Se Guzara Nahi Hota,
Kabhi Dekhoge Jo Tum Humari Bebasi Ko, To Dekhoge,
Hum Sabhi Ke Ho Jate Hai Par Koi Hamara Nahi Hota.


दर्द शायरी, मैंने जिसे भी चाहा
मैंने जिसे भी चाहा अपना बनाना,
सबसे पहले वही चीज मुझसे दूर हुई,
एक बार जो गए फिर कहाँ मिले वो लोग,
जिनके बिना मेरी जिंदगी बेनूर हुई

दर्द शायरी, वो तो अपना दर्द
वो तो अपना दर्द रो-रो कर सुनाते रहे,
हमारी तन्हाइयों से भी आँख चुराते रहे,
हमें ही मिल गया खिताब-ए-बेवफा क्योंकि,
हम हर दर्द मुस्कुरा कर छुपाते रहे।
Woh Toh Apna Dard Ro-Ro Kar Sunate Rahe,
Humari Tanhayion Se Bhi Aankh Churate Rahe.
Humein Hi Mil Gaya Khitab-E-Bewafa Kyunki,
Ham Har Dard Muskura Kar Chhupate Rahe.

दर्द शायरी, दर्द बनकर ही रह
दर्द बनकर ही रह जाओ हमारे साथ
सुना है दर्द बहुत देर तक साथ रहता है

दर्द शायरी, यूँ तो हमेशा के लिए
यूँ तो हमेशा के लिए यहाँ आता नहीं कोई,
पर आप जिस तरह से गए वैसे जाता नहीं कोई।

दर्द शायरी, ना जाने क्यूँ नज़र
ना जाने क्यूँ नज़र लगी ज़माने की,
अब वजह मिलती नहीं मुस्कुराने की,
तुम्हारा गुस्सा होना तो जायज़ था,
हमारी आदत छूट गयी मनाने की.

दर्द शायरी, उलझी शाम को पाने
उलझी शाम को पाने की ज़िद न करो,
जो ना हो अपना उसे अपनाने की ज़िद न करो,
इस समंदर में तूफ़ान बहुत आते है,
इसके साहिल पर घर बनाने की ज़िद न करो..

दर्द शायरी, फेर लेते हैं नज़र, दिल
फेर लेते हैं नज़र, दिल से भुला देते हैं,
क्या यूँ ही लोग वाफ़ाओं का सिला देते हैं,
वादा किया था फिर भी ना आए मज़ार पर,
हमने तो जान दी थी इसी ऐतबार पर!!

दर्द शायरी, मिलने का वादा
मिलने का वादा कर गयी थी,
वापस लौट आउंगी ये कहकर गयी थी,
आई है अब वो जनाज़े पे मेरे,
वादा वो अपना निभाने चली थी!

दर्द शायरी, इश्क का होगा ये अंजाम
इश्क का होगा ये अंजाम, ये मैंने सोचा नहीं था
वो करेगी बेवफाई और मैं हो जाऊंगा बदनाम…..
मेरे प्यार का होगा ये अंजाम, ये मैंने सोचा नहीं था.

दर्द शायरी, प्यास दिल की बुझाने
प्यास दिल की बुझाने वो कभी आया भी नहीं,
कैसा बादल है जिसका कोई साया भी नहीं,
बेरुखी इससे बड़ी और भला क्या होगी,
एक मुद्दत से हमें उसने सताया भी नहीं।

दर्द शायरी, मैंने जिसे भी चाहा
मैंने जिसे भी चाहा अपना बनाना,
सबसे पहले वही चीज मुझसे दूर हुई,
एक बार जो गए फिर कहाँ मिले वो लोग,
जिनके बिना मेरी जिंदगी बेनूर हुई।

दर्द शायरी, मैं अक्सर चुप हो जाता
मैं अक्सर चुप हो जाता हूँ तेरा नाम आते ही
क्यूंकि पहले ही हम बहुत बदनाम हो चुके हैं ||

दर्द शायरी, प्यार सभी को जीना
प्यार सभी को जीना सिखा देता है,
वफ़ा के नाम पे मरना सिखा देता है,
प्यार नहीं किया तो करके देख लो यार,
ज़ालिम हर दर्द सहना सिखा देता है।

दर्द शायरी, मत कर इतनी मोहब्बत
मत कर इतनी मोहब्बत ऐ दिल,
प्यार का दर्द तू सह ना पाएगा,
टूट जाएगा किसी अपने के हाथों से,
किस ने तोड़ा दिल ये भी किसी से कह ना पाएगा.
Mat Kar Itni Mohabbat Aye Dil,
Pyar Ka Dard Tu Seh Na Payega,
Toot Jayega Kisi Apne Ke Haathon Se,
Kis Ne Toda Dil Ye Bhi Kisi Se Keh Na Payega.

दर्द शायरी, दर्द था दिल मे पर
दर्द था दिल मे पर कभी दिखाया नही,
आँसू थे आँखों मे पर कभी रोए नही,
यही फ़र्क़ है दोस्ती ओर प्यार मे,
इश्क़ ने कभी हंसाया नही और,
दोस्तों ने कभी रुलाया नही
Dard Tha Dil Me Par Kabi Dikhaya Nahi,
Aansu The Aankhon Me Par Kabi Roye Nahi,
Yehi Farq Hai Dosti Or Pyaar Me,
Ishq Ne Kabi Hansaya Nahi Aur,
Doston Ne Kabi Rulaya Nahi.
All Image SourceFacebookTwitter

एक टिप्पणी भेजें

0टिप्पणियाँ
एक टिप्पणी भेजें (0)

#buttons=(Accept !) #days=(20)

Our website uses cookies to enhance your experience. Learn More
Accept !